अन्य खबर

विशेष पिछड़ी जनजाति सदस्यों को मूलभूत सुविधाओं से लाभान्वित करने कलेक्टर श्री झा की पहल रंग लाई।

WhatsApp Image 2024-03-09 at 21.00.10
WhatsApp Image 2024-03-09 at 21.00.10
previous arrow
next arrow
Shadow

विशेष पिछड़ी जनजाति सदस्यों को मूलभूत सुविधाओं से लाभान्वित करने कलेक्टर संजीव झा की पहल रंग लाई
विशेष ग्राम सभा के माध्यम से  विशेष पिछड़ी जनजाति के  208 लोगों के बने जाति प्रमाण पत्र और 81 लोगों के वन अधिकार पत्र
नागरिकों को शासकीय योजनाओं का मिलेगा बेहतर लाभ

कलेक्टर श्री संजीव झा की जिले के विशेष पिछड़ी जनजाति सदस्यों को मूलभूत सुविधाओं से लाभान्वित करने की पहल रंग लाई है। कलेक्टर के निर्देशानुसार विशेष ग्राम सभा का आयोजन किया गया था। ग्राम सभा के माध्यम से विशेष पिछड़ी जनजाति के 208 लोगों के जाति प्रमाण पत्र और 81 लोगों के वन अधिकार पट्टा बनाया गया है। जनजाति सदस्यों के वन अधिकार पत्र और जाति प्रमाण पत्र बन जाने से उन्हें शासकीय योजनाओं का अब बेहतर लाभ मिल सकेगा। साथ ही उन्हें ऋण, कृषि उपकरण, सोलर पंप आदि भी आसानी से प्राप्त हो सकेंगे।
         सहायक आयुक्त आदिवासी विकास कोरबा माया वारियर ने बताया की  कलेक्टर संजीव झा  द्वारा जिले के दूरस्थ एवं सूदूर अचंलों जैसे लेमरू, अजगरबहार (छातासराई) का दौरा कर चौपाल लगाया गया था। उक्त शिविर में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, सहायक आयुक्त, आदिवासी विकास विभाग, खाद्य विभाग, महिला बाल विकास विभाग मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत, आदि विभाग के अधिकारी शामिल हुए थे।  चौपाल में विशेष पिछड़ी जनजाति के परिवारों से कलेक्टर श्री झा व्यक्तिगत रूप से रूबरू हुए। इस दौरान कलेक्टर द्वारा जनजाति सदस्यों के वन अधिकार पत्र बनाने, जाति प्रमाण पत्र, राशन कार्ड बनाने एवं आधार कार्ड बनाने हेतु अधिकारियों को निर्देशित किए गए। इसी तारतम्य में चार अगस्त  को विशेष ग्राम सभा का आयोजन किया गया। शर्ताे को पूर्ण करने विशेष पिछड़ी जनजाति के 68 पुरूष एवं 13 महिला कुल 81 पात्र हितग्राहियों को प्रथम चरण में विशेष अभियान चलाकर वन अधिकार पत्र का वितरण किया गया। इसी प्रकार विशेष पिछड़ी जनजाति के पात्र हितग्राहियों के 111 अस्थायी एवं 97 जाति प्रमाण पत्र बनाया गया।

Jitendra Dadsena

50% LikesVS
50% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button