अन्य खबर

नागरिक आपूर्ति निगम के ट्रांसपोर्टर की गलती का खामियाजा भुगत रहे हितग्राही, अनन्या ट्रांसपोर्ट पीडीएस दुकानों पर समय पर नहीं कर पा रहा भंडारण, डियो कटने के बाद भी समय पर नही पहुंचा सका राशन, लेप्स हो गया राशन। विभाग में पैसों के दम पर किया जा रहा खेल, अधिकरी, ट्रांसपोर्टर मस्त जनता त्रस्त।

WhatsApp Image 2024-03-09 at 21.00.10
WhatsApp Image 2024-03-09 at 21.00.10
previous arrow
next arrow
Shadow

कोरबा – कोरबा जिले में पीडीएस दुकानों में भंडारण की समस्या चरम पर है, शासन के द्वारा समय-समय पर गरीबों के लिए महत्वाकांक्षी योजनाएं चलाई जा रही है, जिसमें गरीब बीपीएल कार्ड धारकों को एक रुपए किलो में राशन उपलब्ध कराया जा रहा है जो अभी वर्तमान में कोरोना काल की वजह से निशुल्क वितरण किया जा रहा है, लेकिन गरीबों को मिलने वाले चावल में 6 से 7 माह पूर्व ड्राइवर की गलती की वजह से महावीर ट्रांसपोर्ट कंपनी को नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा ब्लैक लिस्टेड किया गया था, जिसके बाद कोरबा जिले के पीडीएस दुकानों में राशन भंडारण को लेकर वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर अनन्या ट्रांसपोर्टर को जिम्मेदारी दी गई थी, अनन्या ट्रांसपोर्टर द्वारा शर्तों का पालन नहीं किया जा रहा है, ट्रांसपोर्टर की मनमानी और नागरिक आपूर्ति निगम प्रबंधक की मिलीभगत से ट्रांसपोर्टर की कम गाड़ियां और बिना जीपीएस सिस्टम के वाहन चलाए जा रहे हैं आज 7 माह बीत जाने के बाद अपने निजी स्वार्थ की वजह से ट्रांसपोर्टिंग का टेंडर नहीं निकाला गया है, और अनन्या ट्रांसपोर्ट से मोटी रकम लेकर कार्यभार दे दिया गया है, अनन्या ट्रांसपोर्टर के पास गाड़ियों की कमी है कमी की वजह से पीडीएस दुकानों में राशन समय पर नहीं पहुंच पा रहा है, और इसका खामियाजा गरीब जनता भुगत रही है, कई हितग्राही ऐसे भी हैं जिन्हें राशन ही नहीं मिला, हितग्राहियों ने बताया समय पर चावल उतरता ही नहीं, अधिकारी अपने जेब गर्म करने में लगे हुए हैं उन्हें जनता से कोई सरोकार नहीं है ऐसे अधिकारियों के ऊपर सख्त कार्यवाही होनी चाहिए अधिकारियों को किसी भी प्रकार का कार्यवाही का ना डर है ना भय है यहां पर यह कहना बिल्कुल भी गलत नहीं है की सैया भए कोतवाल तो डर काहे का यह मुहावरा अनन्या ट्रांसपोर्टर के ऊपर फिट बैठता है, सूत्र यह भी बताते हैं कि कटघोरा नान गोदाम को चलाने की जिम्मेदारी यहीं की ट्रांसपोर्टर राइस मिलर को ही दिया गया है, इससे इस बात का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है की कितनी भारी मात्रा में वहां पर चावल की अफरा-तफरी की जा रही होगी जब टेंडर निकलेगा ही नहीं तो उनकी शर्तें और उसका पालन व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए नियमों को ताक पर रखकर कार्य कराए जाएंगे,

डीईओ कटने के बाद भी राशन का भंडारण नहीं हो पाया जिससे राशन लेप्स हो गया – सूत्रों से मिली जानकारी में कोरबा नान गोदाम की लापरवाही सामने आई है, कोरबा शहर के 14 पीडीएस दुकानों का डीईओ कटने के बाद भी राशन का भंडारण नहीं हुआ है,

पीडीएस दुकानों में भंडारण के समय उतर रहे हैं कम चावल दुकान संचालक की बढ़ रही है परेशानी- कोरबा जिला के कोरबा,पाली एवं पोड़ी उपरोड़ा ब्लॉक में पीडीएस दुकानों में कम चावल का भंडारण का मामला सामने आया है दुकान संचालकों ने बताया अनन्या ट्रांसपोर्टर द्वारा भंडारण के दौरान कम से कम 7 से 8 कट्टी चावल की बोरी कम रहती है, जिससे हितग्राही को चावल वितरण करने में परेशानी होती है दुकान संचालक यह भी कहा कि ट्रांसपोर्टर की लापरवाही का खामियाजा हमें उठाना पड़ता है मार्केट से चावल खरीद हितग्राहियों को देनी पड़ती है, चावल की कम भंडारण को लेकर ठेकेदार एवं संबंधित अधिकारी को सूचना दे दी जाती है लेकिन उनका कहना रहता है अगली बार भंडारण के समय बढ़ाकर भेज दिया जाएगा, लेकिन भेजा नहीं जाता कहीं ना कहीं जिला प्रशासन को जांच कर सख्त कार्रवाई करने की जरूरत है,

Jitendra Dadsena

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button