अन्य खबरकोरबा खबर

कनकेश्वर धाम हो रहा उपेक्षा का शिकार, जिला प्रशासन नही दे रहा ध्यान:-युवा संगठन जय कनकेश्वर सेवा समिति कनकी।

WhatsApp Image 2024-03-09 at 21.00.10
WhatsApp Image 2024-03-09 at 21.00.10
previous arrow
next arrow
Shadow

कोरबा शहर से 25 किलोमीटर दूर ऐतिहासिक कनकेश्वर मंदिर जहाँ भोले बाबा स्वयंभू के रूप में प्रकट हुवे है जहां दूर दुर से शिवभक्त पूजा करने आते है लेकिन प्रशासन द्वारा किसी प्रकार की मदद नही मिलने से व्यथित सेवा संगठन के सदस्य हरवंश राजवाड़े ने बताया कि आवेदन दिया जाता है लेकिन विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नही कि जाती है मेला मैदान के बीच मे ट्रांसफर को लगाया गया है जिसका विरोध के बाद भी हटाने के लिए कार्यवाही नही कर रहे है इससे मेला मैदान का अस्तित्व पर संकट के बादल छाये हुए है, तड़ित चालक शो पीस बन कर रह गया है जिसमे लगे तारो को शरारती तत्वो के द्वारा नुकसान पहुचाया गया है जिससे प्रवासी पक्षियों के जान पर बन आई है
कनकी मंदिर में लाखो श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है जिसमे समिति द्वारा पार्किंग ,सेवा, चाय पानी के साथ ही सुरक्षा भी करनी पड़ती है प्रशासन के सहयोग की जरूरत पड़ती है

मेला ग्राउंड से ट्रांसफार्मर को हटाया जाना चाहिए। ताकि किसी प्रकार की जान हानि न हो । हटाने के लिए आवेदन भी दिया गया है लेकिन कार्यवाही नही की जा रही है। पाली में होने वाले पाली महोत्सव के जैसे कनकेश्वर धाम महोत्सव का आयोजन जिला प्रशासन द्वारा कराया जाना चाहिए।

कनकी पहुचने वाले प्रवासी पक्षियों के लिए वन विभाग द्वारा किसी प्रकार की तैयारी नही की गई है जिससे यहां आने वाले प्रवसीय पक्षियों की मौत हो रही है तड़ित चालक को जल्दी नही सुधारा गया तो भविष्य में बहुत से प्रवासी पक्षियों की मौत गाज गिरने से हो सकती है । गांव के बाहर शासकीय भूमि में कब्जे को लेकर पूर्व में आवेदन दिया गया था की उसे मेला ग्राउंड बना दिया जाए । जिसमे आज तक कोई कार्यवाही नही की गई है
सावन महीने में आने वाले श्रद्धालुओं के वाहन रखने के लिए शासकीय भूमि को संरक्षित रखने का प्रयास किया जा रहा था जिससे सड़को पर दबाव कम पडता। लेकिन उक्त शासकीय भूमि पर कब्जा हो जाने की वजह से पार्किंग की व्यवस्था नही हो पा रही है
इस मौके पर युवा संगठन के अध्यक्ष रामेश्वर दास महंत ,जनपद सदस्य विजय कुमार राजवाड़े , सचिव बसंत राजवाड़े , संजय कुमार राजवाड़े समेत युवा संगठन के सदस्य मौजूद थे ।

Jitendra Dadsena

50% LikesVS
50% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button